अति कामुक स्त्रियों की समस्या का समाधान

Ati Kamuk Striyon Ki Samasya Ka Samadhan, sambhog

कुछ ऐसी स्त्रियां होती हैं, जिनमें संभोग की इच्छा बहुत अधिक होती है। यदि ऐसी स्त्रियों(अत्यंत कामुक) की कामेच्छा आवश्यकतानुसार बार-बार शांत न की जाये, तो ये बहुत अधिक कामातुर हो जाती हैं। यहां तक कि वह कामोन्मादग्रस्त हो जाती हैं।

दरअसल इस प्रकार की स्त्रियां अपनी मान-मर्यादा को भूलकर संभोग के लिए किसी को भी अपना मूक-या फिर स्वतंत्र रूप से खुलकर निमंत्रण देने से भी नहीं चूकती हैं। उनकी बातों, विचारों एवं व्यवहारों में भी अश्लीलता प्रकट होती हैं। यहां तक कि संभोग के लिए कहते समय छोटे-बड़े या रिश्ते का भी ध्यान नहीं करती हैं। उनके लिए अपनी काम-पिपासा शांत करना ही सर्वोपरि एकमात्र उद्देश्य रह जाता है।

आखिर क्या हैं इस अत्यधिक कामुकता के कारण?

युवती होते ही या इससे पूर्व कुसंगति में अश्लील वातावरण में पलना, चरित्रहीन लड़कियों के मध्य रहना, पूर्ण अश्लील वातावरण में रहने के साथ-साथ अश्लील हरकतों(हस्तमैथुन, अतिमैथुन) आदि के लिए प्रेरित करना, अश्लील साहित्य, अश्लील चलचित्र आदि में अधिक रूचि लेना, संभोग के विभिन्न आसनों के नग्न चित्रों को देखना, संभोगरत स्त्री-पुरूष को नग्नावस्था में देखने की आदत, जीजा या भाभी के भाई जैसे रिश्तेदारों के सम्पर्क में अधिक रहना, बड़ी बहन के या भाभी के साथ भाभी के मायके में अधिक समय बिताना भी इस रोग के लिए उत्प्रेरक माना जाता है।

अति कामुकता के लक्षण-

जैसा कि परिचय में चर्चा की जा चुकी है, कि वह कामेच्छा पर नियंत्रण रखने में पूर्णतः असमर्थ होती हैं। बराबर प्रसाधनों द्वारा, वस्त्रों(पहनावे) द्वारा अपनी ओर पुरूषों को रिझाने में लगी रहती हैं। यदि स्वयं कोई आकर्षित नहीं होता, तो स्वयं मन चाहे पुरूष को कहने में नहीं शर्माती हैं। पर-पुरूषों के देखते ही अंगड़ाईयां लेने लगती हैं। शरीर से वस्त्र इस प्रकार खिसकाते रहते हैं, जैसे वह जानबूझ कर अंग-प्रदर्शन करना चाहती हैं। कुछ भी कहो, वह अश्लील शब्दों में ही जवाब देती हैं।

इसे भी पढ़ें- मासिक धर्म

आयुर्वेदिक व देसी चिकित्सा-

Ati Kamuk Striyon Ki Samasya Ka Samadhan

1. अष्टमूर्ति रसायन- 60 से 250 मि.ग्रा. अदरक के रस के साथ घिसकर शहद मिलाकर नित्य सुबह-शाम दें।

2. रस सिन्दूर- 125 मि.ग्रा. पैठे के रस के साथ या ब्राह्मी चूर्ण 3 ग्राम के साथ नित्य दो बार दें।

3. उन्माद गज केसरी रस- 250 से 500 मि.ग्रा. असमान मात्रा में घृत एवं शहद मिलाकर नित्य दो बार दें।

4. पुदीना- पुदीना एक ऐसा हर्ब है, जो आपकी सेक्स के प्रति रूचि को कम कर सकता है। इसीलिए कई संत और साधु जन दिनभर इस हर्ब(पुदीना) को चबाते रहते हैं, जिससे उनकी काम के प्रति इच्छा जागृत न हो पाये। पुदीने का अत्यधिक मात्रा में सेवन करने से टेस्टोस्टेरॉन का प्रोडक्शन कम हो जाता है।

5. कॉफी- आपने देखा होगा कि कई लोग अपने पूरे दिन की थकान व अपने दिमाग को फ्रेश करने लिए काॅफी का अत्यधिक सेवन करते रहते हैं। हर एक आधे या एक घंटे बाद उन्हें काॅफी की जरूरत महसूस होने लगती है, ताकि थकान मिटायी जा सके। लेकिन अगर इसके विपरीत सोचा जाये कि जो चीज इतनी जल्दी आपकी थकान को दूर कर, आपको तरो-ताजा बना सकती है, तो वह आपके सेक्सुअल एक्टिविटी को भी को प्रभावित कर सकती है। यानी अगर जो महिला ‘काम’ के लिए अत्यधिक व्याकुल है, यदि उसे काॅफी का अत्यधिक सेवन कराया जाये तो उसकी सेक्स इच्छा भी प्रभवित होकर कम हो सकती है।

सेक्स समस्या से संबंधित अन्य जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.Click here

हमारी दूसरी साइट पर जाने का लिंक – https://chetanonline.com

Ati Kamuk Striyon Ki Samasya Ka Samadhan का यह लेख आपको कैसा लगा हमे कमेंट करके जरूर बताये |

यह बाते अपने दोस्तों को शेयर करे |

अधिक जानकारी या इलाज के लिए क्लिक करे

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published.